प्रेरणादायक विचार - Updated

सुभाष चन्द्र बोस के प्रेरणादायक विचार

23 January - Netaji Subhas Chandra Bose Jayanti
सुभाष चन्द्र बोस के प्रेरणादायक विचार : Read Best Collection Of Subhash Chandra Bose Quotes, Netaji Subhash Chandra Bose Motivational Thoughts And Great Subhash Chandra Bose Desh Bhakti Shayari in Hindi.

Subhash Chandra Bose Quotes And Shayari with Photos



तुम  मुझे  खून  दो  मैं  तुम्हें  आज़ादी  दूंगा!

मुझे यह नहीं मालूम की,
स्वतंत्रता के इस युद्ध में हममे से कौन  कौन जीवित बचेंगे.
परन्तु में यह जानता हूँ, अंत में विजय हमारी ही होगी....


subhash chandra bose quotes in hindi



चरित्र निर्माण ही छात्रों का मुख्य कर्तव्य है..

एक सच्चे सैनिक को सैन्य और आध्यात्मिक दोनों ही प्रशिक्षण की ज़रुरत होती है।

संघर्ष ने मुझे मनुष्य बनाया,
मुझमे आत्मविश्वास उत्पन्न हुआ ,जो पहले नहीं था....

हम संघर्षों और उनके समाधानों द्वारा ही आगे बढ़ते हैं..

याद रखिये सबसे बड़ा अपराध अन्याय सहना और गलत के साथ समझौता करना है.



netaji subhash chandra bose shayari

कष्टों का निसंदेह एक आंतरिक नैतिक मूल्य होता है...

आज हमारे अन्दर बस एक ही इच्छा होनी चाहिए, मरने की इच्छा ताकि भारत जी सके! एक शहीद की मौत मरने की इच्छा ताकि स्वतंत्रता का मार्ग शहीदों के खून से प्रशस्त हो सके

अपने कॉलेज जीवन की देहलीज पर खड़े होकर मुझे अनुभव हुआ,
जीवन का कोई अर्थ और उद्देश्य है...


"मध्या भावे गुडं दद्यात"
अर्थात जहाँ शहद का अभाव हो वहां गुड से ही शहद का कार्य  निकालना  चाहिए

एक सच्चे सैनिक को सैन्य और आध्यात्मिक दोनों ही प्रशिक्षण की ज़रुरत होती है.




subhash chandra bose inspirational quotes

में जीवन की अनिश्चितता से जरा भी नहीं घबराता...

समझोतापरस्ती बड़ी अपवित्र वस्तु है..

स्वामी विवेकानंद का यह कथन बिलकुल सत्य है ,
यदि तुम्हारे पास लोह शिराएं हैं और कुशाग्र बुद्धि है ,तो तुम सारे विश्व  को अपने चरणों में झुक सकते हो... 

subhash chandra bose motivational shayari

मुझमे जन्मजात प्रतिभा तो नहीं थी,
परन्तु कठोर परिश्रम से बचने की प्रवृति मुझमे कभी नहीं रही...

श्रद्धा की कमी ही सारे कष्टों और दुखों की जड़ है..




इतिहास  में  कभी  भी विचार-विमर्श  से  कोई  वास्तविक  परिवर्तन   हासिल  नहीं हुआ है।

जिस व्यक्ति में सनक नहीं होती, वह कभी भी महान नहीं बन सकता,
परन्तु सभी पागल व्यक्ति महान नहीं बन जाते,
क्योंकि सभी पागल व्यक्ति प्रतिभाशाली नहीं होते.  आखिर क्यों ?
कारण यह है की केवल पागलपन ही काफी नहीं है.
इसके अतिरिक्त कुछ और भी आवश्यक है....


subhash chandra bose great thoughts in hindi 

अगर संघर्ष न रहे, किसी भी भय का सामना न करना पड़,
तब जीवन का आधा स्वाद ही समाप्त हो जाता है...

इतना तो आप भी मानेंगे, एक न एक दिन तो मैं जेल से अवश्य मुक्त हो  जाऊँगा,
क्योंकि प्रत्येक दुःख का अंत होना अवश्यम्भावी है ...


मैंने अमूल्य जीवन का इतना समय व्यर्थ ही नष्ट कर दिया,
यह सोच कर बहुत ही दुःख होता है.
कभी कभी यह पीड़ा असह्य हो उठती है,
मनुष्य जीवन पाकर भी जीवन का अर्थ समझ में नहीं आया.
यदि मैं अपनी मंजिल पर नहीं पहुँच पाया, तो यह जीवन व्यर्थ है,
इसकी क्या सार्थकता है ?

netaji ke famous speech in hindi



यदि आपको अस्थायी रूप से झुकना पड़े,
त ब वीरों की भांति झुकना...

इतिहास में कभी भी विचार -विमर्श से कोई ठोस परिवर्तन नहीं हासिल किया गया है.

हमें केवल कार्य करने का अधिकार है,
कर्म ही हमारा कर्तव्य है.
कर्म के फल का स्वामी वह (भगवान ) है, हम नहीं...

आज हमारे अन्दर बस एक ही इच्छा होनी चाहिए, मरने की इच्छा ताकि भारत जी सके! एक शहीद की मौत मरने की इच्छा ताकि स्वतंत्रता का मार्ग शहीदों के खून से प्रशश्त हो सके.

subhash chandra bose desh prem slogan in hindi

असफलताएं कभी कभी सफलता की स्तम्भ होती हैं..

समय से पूर्व की परिपक्वता अच्छी नहीं होती,
चाहे वह किसी वृक्ष की हो,
या व्यक्ति की और उसकी हानि आगे चल कर भुगतनी ही होती है...

freedom struggle quote in hindi

भारत में राष्ट्रवाद ने एक ऐसी शक्ति का संचार किया है जो लोगों के अन्दर सदियों से निष्क्रिय पड़ी थी.

एक सैनिक के रूप में आपको हमेशा तीन आदर्शों को संजोना और उन पर जीना होगा - सच्चाई, कर्तव्य और बलिदान। जो सिपाही हमेशा अपने देश के प्रति वफादार रहता है, जो हमेशा अपना जीवन बलिदान करने को तैयार रहता है, वो अजेय है। अगर तुम भी अजेय बनना चाहते हो तो इन तीन आदर्शों को अपने ह्रदय में समाहित कर लो।

व्यर्थ की बातों में समय खोना मुझे जरा भी अच्छा नहीं लगता..

परीक्षा का समय निकट देख कर हम बहुत घबराते हैं.
लेकिन एक बार भी यह नहीं सोचते की जीवन का प्रत्येक पल परीक्षा का  है,
यह परीक्षा ईश्वर और धर्म के प्रति है ! स्कूल की परीक्षा तो दो दिन की  है,
परन्तु जीवन की परीक्षा तो अनंत काल के लिए देनी होगी..
उसका फल हमें जन्म-जन्मान्तर तक भोगना पड़ेगा....

subhash chandra bose suvichar in hindi

मैं चाहता हूँ  चरित्र ,ज्ञान और कार्य

हमारी राह भले ही भयानक और पथरीली हो,
हमारी यात्रा चाहे कितनी भी कष्टदायक  हो,
फिर भी हमें आगे बढ़ना ही है..
सफलता का दिन दूर हो सकता है, पर उसका आना अनिवार्य है....

हमें अधीर नहीं होना चहिये,  न ही यह आशा करनी चाहिए,
की जिस प्रश्न का उत्तर खोजने में न जाने कितने ही लोगों ने अपना  सम्पूर्ण जीवन समर्पित कर दिया,
उसका उत्तर हमें एक-दो दिन में प्राप्त हो जाएगा....

netaji ke bhasan hindi me



भावना के बिना चिंतन असंभव है,
यदि हमारे पास केवल भावना की पूंजी है तो चिंतन कभी भी फलदायक  नहीं हो सकता.
बहुत सारे लोग आवश्यकता से अधिक भावुक होते हैं, परन्तु वह कुछ  सोचना नहीं चाहते ...

मेरे जीवन के अनुभवों में एक यह भी है,
मुझे आशा है की कोई-न-कोई किरण उबार लेती है और जीवन से दूर  भटकने नहीं देती...

याद  रखिए  सबसे  बड़ा  अपराध अन्याय सहना और  गलत  के  साथ  समझौता  करना  है

भविष्य अब भी मेरे हाथ में है..

प्रांतीय ईर्ष्या-द्वेष दूर करने में जितनी सहायता हिन्दी प्रचार से मिलेगी, दूसरी किसी चीज से नहीं।

मैंने अपने छोटे से जीवन का बहुत सारा,
समय व्यर्थ में ही खो दिया है..

कर्म के बंधन को तोडना बहुत कठिन कार्य है..

मैंने जीवन में कभी भी खुशामद नहीं की है,
दूसरों को अच्छी लगने वाली बातें करना मुझे नहीं आता....

मैं संकट एवं विपदाओं से भयभीत नहीं होता.
संकटपूर्ण दिन आने पर भी मैं भागूँगा नहीं,
वरन आगे बढकर कष्टों को सहन करूँगा .....

निसंदेह बचपन और युवावस्था में,
पवित्रता और संयम अति आवश्यक है...

ये हमारा कर्तव्य है कि हम अपनी स्वतंत्रता का मोल अपने खून से चुकाएं. हमें अपने बलिदान और परिश्रम से जो आज़ादी मिले, हमारे अन्दर उसकी रक्षा करने की ताकत होनी चाहिए.

मुझे जीवन में एक निश्चित लक्ष्य को पूरा करना है.
मेरा जन्म उसी के लिए हुआ है. मुझे नेतिक विचारों की धारा में नहीं  बहना है...

सुबह से पहले अँधेरी घडी अवश्य आती है,
बहादुर बनो और संघर्ष जारी रखो, क्योंकि स्वतंत्रता निकट है...

राष्ट्रवाद  मानव  जाति  के  उच्चतम आदर्शों  सत्यम्  , शिवम्, सुन्दरम्  से   प्रेरित  है।

मेरी सारी की सारी भावनाएं मृतप्राय हो चुकी हैं,
और एक भयानक कठोरता मुझे कसती जा रही है....

जीवन में प्रगति का आशय यह है की शंका संदेह उठते रहें,
और उनके समाधान के प्रयास का क्रम चलता रहे...

मेरे मन में कोई संदेह नहीं है कि हमारे देश की प्रमुख समस्याएं गरीबी, अशिक्षा, बीमारी, कुशल उत्पादन एवं वितरण सिर्फ समाजवादी तरीके से ही की जा सकती है.
© Copyright 2013-2019 - Hindi Blog - ALL RIGHTS RESERVED - POWERED BY BLOGGER.COM