स्वास्थ्य - Updated

रात में बाल धोते हैं तो हो जाइये इन समस्याओं के लिए तैयार

रात में बाल धोते हैं तो हो जाइये इन समस्याओं के लिए तैयार , रात में बालों को धोने से नुकसान जरूर हो सकता है , रात में बाल धोने से क्या होता है ?
कई महिलाओं को सुबह-सुबह बाल धोना पसंद नहीं होता है. सुबह बाल न धोना पड़े इसके लिए वो रात में ही बाल धोकर सो जाती हैं. लेकिन आपको ये जानकर शायद हैरानी हो कि रात में बाल धोने से आपके बालों को काफी नुकसान पहुंचता है. आइए जानते हैं कैसे.

रात में बालों को धोने से नुकसान जरूर हो सकता है


बाल ज्यादा टूटते हैं
रात में बालों को धोने से बाल और जड़े दोनों कमजोर होती हैं. गीले बालों में सोने से बाल ज्यादा टूटते हैं. जब बाल गीले होते हैं तो बालों का क्यूटिकल ज्यादा ऊपर उठा होता है जो बालों के टूटने का कारण बनता है.

बालों का टेक्सचर होता है खराब
रात में बाल धोने के बाद अगर आप गील बालों में सोते हैं तो वो अलग अलग आकार लेता जाता है. सुबह उठने परआपको अपने बालों का टेक्‍चर खराब मिलेगा.

उलझते हैं बाल
कई महिलाएं रात को बाल धोने के बाद उन्‍हें कंघी से नहीं सुलझातीं, जिसकी वजह से बालों में गांठे पड़ जाती हैं. सूखने के बाद बाल और उलझ जाते हैं. इन्हें खींच-खींच कर सुलझाने से बाल टूटने लगते हैं.

संक्रमण का खतरा
गीले बालों में सोने से फंगस, रूसी, बालों का झड़ना और संक्रमण जैसी समस्‍याएं हो सकती हैं. गीले बालों के कारण नमी से फंगल ग्रोथ तेजी से होता है.

हो सकती है एलर्जी
रात में बाल धोने से सर्दी-जुकाम या एलर्जी बढ़ सकती है. इसकी वजह से सिर दर्द और भारीपन भी हो सकता है. ज्यादा देर तक गीले बालों में धूल चिपकने से एलर्जी का खतरा भी बढ़ता है. अगर आपको रात में बाल धोने हीं हैं, तो उसे ठीक से सुखाने के बाद ही सोएं.

बहुत काम का है सरसों का तेल जानिए इसके हैरत में डालने वाले कुछ घरेलू नुस्खे || रोग प्रतिरोधक सरसों आयुर्वेदिक नुस्खे

रोग प्रतिरोधक सरसों आयुर्वेदिक नुस्खे
सरसों के बारे तो हम सभी जानते हैं सदियों से ही यह हमरे रसोई के या अन्य कामों में प्रयोग में ली जाती रही है । कह सकते है की सरसों भारतीय रसोई का एक अहम हिस्‍सा है। सरसों के बीज लगभग 5,000 वर्षों से हैं। वे कई लाभों के लिए जाने जाते हैं क्योंकि वे कैलोरी में कम और पोषक मूल्य में उच्च होते हैं और उनमें बहुत अधिक जीवाणुरोधी और जीवाणुरोधी गुण होते हैं।


सरसों का  तेल भारतीय पकवानों में काफी प्रोयग किया जाता है। यहाँ तक की भारत के कुछ हिस्से में सरसों का तेल ही रसोई के कामों में उपयोग में लाया जाता है । सरसों की पत्तियां भी बहुत फायदेमंद है। वे विभिन्न किस्मों में उपलब्ध हैं - काली सरसों, सफेद सरसों और भूरे रंग की भारतीय सरसों, साथ ही साथ चूर्ण के रूप में।आइये जानते हैं सरसों के तेल कुछ घरेलू नुस्खे ।




इसकी मालिश से रक्‍त-संचार बढ़ता है, मांसपेशियां विकसित और मजबूत होती है, त्‍वचा की बनावट में सुधार होता है। बच्‍चों को भी सरसों के उबटन की मालिश की जाती है। सरसों का तेल जीवाणुरोधी होता है। खाने में पौष्टिक और बहुपयोगी के औषधीय गुणों के बारे में हम आपको बताते हैं।

सरसों के लाभ -

सरसों के तेल में ओलिक एसिड और लीनोलिक एसिड पाया जाता है, यह फैटी एसिड होते हैं जो बालों के लिए फायदेमंद हैं। इनसे बालों की जड़ो को पोषण मिलता है। अगर आप इस तेल को हफ्ते में दो दिन इस्‍तेमाल करेंगे तो बाल झड़ना कम हो जाता है।
दातों और मसूड़ों पर सरसों का तेल रगड़ने से वह मजबूत होते हैं। पायरिया के मरीजों के लिए भी यह फायदेमंद है।
इसके अलावा यह सर्दी, जुखाम, सिरदर्द और शरीर के दर्द में भी बहुत फायदा देता है।
सरसों के तेल में एलिल आइसोथियोसाइनेट के गुण मौजूद होते हैं। त्वचा विकारों के लिए सबसे अच्छे इलाज के रूप में काम करता है। साथ ही यह शरीर के किसी भी भाग में फंगस को बढ़ने से रोकता है।




  • सरसों के दानों को पीसकर शहद के साथ चाटने से कफ और खांसी समाप्त हो जाती है।
  • सरसों के तेल से मालिश करने से गठिया और जोड़ो का दर्द भी ठीक हो जाता है। गठिया के रोगी सरसों के तेल में कपूर मिलाकर मालिश करें फायदा होगा। 
  • सरसों शरीर की रोग-प्रतिरोधक क्षमता को मजबूत करता है। यह शरीर को गर्माहट भी प्रदान करता है, अगर इसे ठंडक में खाया जाए तो ठंड बिलकुल नहीं लगेगी।
  • अगर आपको भूख नहीं लगती तो अपने खाने को सरसों के तेल में बनाना शुरु कर दीजिए, क्‍योंकि यह तेल भूख बढ़ा कर शरीर में पाचन क्षमता को बढ़ाता है।
  • सरसों के तेल में विटामिन ई होता है। इसे त्‍वचा पर लगाने से सूर्य की अल्‍ट्रावायलेट की किरणों से बचाव होता है।
  • सरसों का तेल साथ ही यह झाइयों और झुर्रियों से भी काफी हद तक राहत दिलाता है।
  • सरसो के दानों को पीसकर लेप लगाने से किसी भी प्रकार की सूजन ठीक हो जाती है।
  • सरसों का तेल खाने से कोरोनरी हार्ट डिज़ीज का खतरा भी थोड़ा कम हो जाता है।
  • इस तेल को मालिश के लिए भी इस्‍तेमाल किया जाता है।
  • जिन लोगों की त्‍वचा रूखी-सूखी है, वे लोग अपने हाथों, पैरों में तेल लगाने के बाद पानी से स्‍नान कर लें। इससे त्‍वचा को पोषण मिलता है और त्‍वचा नम हो जाती है।



कभी ऐसे शॉट लगाए जो स्वास्थ्य के लिए अच्छे हैं? घर पर बनाए जा सकने वाले इन पोषक तत्वों से भरे पेय को आज़माएं

अक्सर देखने में आता है की हर कोई किसी न किसी शारीरिक परेशानी के चलते डॉक्टर की गोली का आदि हो रहा है , यहाँ तक की लोग अपनी थकन को दूर करने के लिए भी गोली का सहारा लेते हैं पर क्या दिन में एक गोली डॉक्टर को दूर रख सकती है?

यदि आप अपने स्वास्थ्य को लेकर सचेत हैं तो  तो आपको शराब के शॉट की बजे और सही प्रकार के शॉट लेने होंगे  जो आपको स्वास्थ्य देकर  डॉक्टर से छुटकारा पाने में सहायक सिद्ध होंगे   - एंटीऑक्सिडेंट, खनिज, विटामिन और पोषक तत्वों के साथ स्वास्थ्य को बढ़ावा देता है। आज - कल सबसे लोकप्रिय अदरक शॉट्स हैं, लेकिन आप हल्दी, दालचीनी या सेब साइडर सिरका भी शूट कर सकते हैं।  इनमे से भी कुछ में विरोधी  गुण होते हैं, साथ ही ये आपकी हड्डियों को मजबूत करने में भी मदद करते हैं। और वे सभी घर पर बनाए जा सकते हैं। ऐसे।



अदरक


सबसे पहले इसके लिए आपको चाहिए ताजा अदरक की जड़ का 1 इंच का टुकड़ा , इसे पीसें और इसे 1 चम्मच लगभग रस निकाल ले। इसे और स्वादिष्ट बनाने के लिए आप इसमें नींबू या संतरे का रस, हल्दी, काली मिर्च और शहद को भी इस्तेमाल कर सकते हैं ।


Bhakti Samant, chief dietician at Kokilaben Dhirubhai Ambani Hospital, Mumbai says

अदरक में gingerol नामक , एक पदार्थ होता है जो हमरे पाचन की क्रिया में सहायक होता है, और मतली के कई रूपों का इलाज करने में मदद कर सकता है, विशेष रूप से गर्भवती महिलाओं में सुबह की बीमारी,

सेब का सिरका


सेब साइडर सिरका, पानी और बर्फ के टुकड़े का मिश्रण मांसपेशियों में दर्द, सिरदर्द और पाचन की परेशानी का अचूक उपाय है।

लोकप्रिय रूप से एसीवी के रूप में जाना जाता है, एप्पल साइडर सिरका एक क्षारीय, प्रोबायोटिक युक्त घटक है जो मांसपेशियों में दर्द, सिरदर्द और पाचन को बढ़ावा देने के लिए जाना जाता है।


हल्दी


गुड ऑल 'हल्दी नारियल पानी, अदरक, शहद और नींबू के साथ अच्छी तरह से चला जाता है।

हल्दी में मौजूद करक्यूमिन एक बहुत मजबूत एंटी-ऑक्सीडेंट है। 
“यह हल्दी शॉट्स को एक महान विरोधी  बनाता है। सिंह कहते हैं कि यह जोड़ों के दर्द को कम करने में मदद करता है और प्रतिरक्षा को बढ़ाता है।



एक कप नारियल पानी में 1 चम्मच हल्दी मिलाएं; स्वाद के लिए अदरक, शहद और नींबू डालें। एक चुटकी ताजी पिसी हुई काली मिर्च शरीर को करक्यूमिन को बेहतर तरीके से अवशोषित करने में मदद करेगी।

चिया बीज


चिया के बीज को सही से इस्तेमाल में लेन के लिए पहले इसे  10 मिनट के लिए पानी में भिगो दें।
“चिया ओमेगा 3 फैटी एसिड में समृद्ध है। वे एंटीऑक्सिडेंट का एक स्रोत हैं, जो माना जाता है कि हृदय, एंटी-एजिंग और एंटी-कार्सिनोजेनिक विशेषताएं हैं, ”

1 टीस्पून चिया बीज को पानी में कम से कम 10 मिनट के लिए भिगो दें। एक गोली की तरह नीचे; आप इसे नाश्ते के स्थान पर रख सकते हैं।


दालचीनी



अगर आप मासिक धर्म में ऐंठन  की समस्या से परेशान है तो इसके इलाज - पानी में एक दालचीनी की छड़ी भिगोएँ और साथ में शहद मिला ले ।
(ध्यान रहे इसे एक ही बार में नीचे न करें; यह थोड़ी मात्रा में ही बेहतर अवशोषित होता है)।


“यह हल्दी शॉट्स को एक महान विरोधी भड़काऊ बनाता है। यह संयुक्त दर्द को कम करने में मदद करता है, और प्रतिरक्षा को बढ़ाता है, ”




एक ACV शॉट के लिए, 100 मिलीलीटर पानी में 1 चम्मच एप्पल साइडर सिरका मिलाएं और बर्फ के टुकड़े डालें। एक दिन में एक शॉट पर प्रतिबंध। अब आगे से असली शॉट पर ध्यान दें जो आपको स्वास्थ्य लाभ दे ।
© Copyright 2013-2019 - Hindi Blog - ALL RIGHTS RESERVED - POWERED BY BLOGGER.COM