विशेष पोस्ट - Search results

सावधान - इनका अगला निशाना आप भी हो सकते है ये है इनके ठगने के तरीके

प्रिय पाठक जैसा की आप जानते हैं परिवर्तन के इस दौर में सबकुच्छ बहुत तेजी से बदल रहा है | अब जमाना hi - tech  हो गया है | अब हर कोई स्मार्ट फोन रखता है हर किसी का बेंक में खता है साथ एटीएम आदि की सुविधाओं का लगभग सभी जानकर या कुछ जिन्हें इस बारे में पूर्ण ज्ञान भी नहीं आनन्द ले रहे हैं |

अब बात ये है की आप इन  सबको लेकर जागरूक कितने हैं  या कहें की आपको इनके बारे में कितनी जानकारी है ??
देखिये हर कोई सारी  बातों की जानकारी ये तो शायद मुश्किल हो लेकिन इस दौर आप जिस भी सुविधा का आनन्द लेना चाहें तो उससे जुडी जानकारी जरुरी समझकर आपको ले लेनी चाहिए |

आज हम आपके साथ कुछ जानकारी शेयर करेंगे जो शायद आपके या आपके किसी जानकर को फायदा पहुंचा सके --

सबसे पहले बात करते है फ़ोन की  तो कभी भी किसी अनजान नम्बर से मिस्काल आये तो जल्दबाजी में उस नम्बर पर फोन न करें पहले यह निश्चित कर ले ये नम्बर 
+91 से शुरू होता है जोकि भारत ( india ) का नेशनल कोड है | ये लोग आपको आर्थिक हानी पंहुचा सकते हैं 

कभी भी किसी लोटरी की सुचना पर भरोसा करने से पहले ये निच्शित करना न भूलें की आपने ऐसी किसी लोटरी में रूचि दिखाई भी थी या नहीं |

अपने स्मार्ट फोन में उल - जलूल एप्पस डाउनलोड न करें ये भी आपकी प्राइवेसी को लिक कर सकती हैं इसलिए हमेसा विस्वसनीय और जांची परखी एप्प का प्रयोग करें |

यदि आप whatsapp इस्तेमाल किसी अंजान ग्रुप को ज्वाइन न करें न ही किसी अंजन व्यक्ति को अपने ग्रुप में ऐड करें |
whatsapp पर आने वाले फ्री रिचार्ज के लिंकों से तो दूर ही रहें आजकल कुछ हैकर श्री नरेंद्र मोदी जी का नाम का इस्तेमाल भी लोगों को ठगने के लिए क्र रहें हैं इस तस्वीर में देखें 

अपनी email ID , एटीएम , व् अनन्य ऑनलाइन एकाउंट्स के पासवर्ड समय - समय पर नियमित रूप से बदलते रहें |

किसी भी अनजान व्यक्ति को अपनी बेंकिंग सम्बन्धी जानकारी जैसे पासवर्ड या एटीएम नम्बर , उसपर लिखे CVV नम्बर की जानकारी न दें चाहे वो कोई बेंक अधिकारी ही क्यों न हो | फोन पर तो इस बात का विशेष ध्यान रखें |

जानकारियां तो और भी बहोत सी है लेकिन पोस्ट को ज्यादा लम्बा न करने के उदेश्य से हमने वो ही बातें शेयर की है जो आजकल चलन पर है ये कुछ विशेष तरीके है जिनसे आपकी पर्सनल जानकारी हासिल करके ठगना आसन हो जाता है
तो सजग रहें सचेत रहें ओरों को भी सावधान करें बाकि हम आगे भी ऐसी जानकारियां आपसे साझा करते रहेंगे 
धन्यवाद 

वर्ष 2020 में परेशानी से बचना चाहते हैं तो मे इन जरुरी तारीखों का रखें ध्यान

सबसे पहले आपको ढेर सारी शुभ कामनाओं के साथ नव वर्ष की बधाई , अब आते है नए वर्ष पर होने वाले कुछ विशेष कार्यों पर जिनका आपको ध्यान रखना चाहिए वो कहते हैं न की कोई काम अगर हमे करना है तो उसकी तैयारी पहले से ही कर लेना अच्छा रहता है | आपका वर्ष 2020 बिना किसी विघ्‍न-बाधा के गुजरे इसी का ख्याल रखते हुए हम आपको कुछ जरूरी कामों की अंतिम तारीख एक बार याद दिलाना चाहते हैं जो आपके लिए महत्वपूर्ण भी है | इस पोस्ट में आपको ऐसे ही 10 कामों के बारे में बताने जा रहें है जिनकी आखरी तारीख कुछ इस प्रकार है |



फास्टैग लेने की अंतिम तारीख : 15 जनवरी

हाईवे से गुजरने वाले सभी वाहनों के ल‍िए फास्‍टैग जरूरी क‍िया गया है. 15 जनवरी के बाद ज‍िन वाहनों पर फास्टैग नहीं लगा होगा, उनसे दोगुना टोल वसूला जाएगा. पहले इसके ल‍िए आखिरी तारीख 31 दिसंबर थी. इसे बढ़ाकर 15 जनवरी किया गया है.

सीनियर सिटीजंस के लिए पीएमवीवीवाई में निवेश : 31 मार्च
फिक्‍स्‍ड डिपॉजिट पर ब्‍याज दरें लगातार घट रही हैं. इनके बीच प्रधानमंत्री वय वंदना योजना वरिष्‍ठ नागरिकों के लिए एक और विकल्‍प है जिस पर वे विचार कर सकते हैं. यह बुजुर्गों के लिए उपलब्‍ध पेंशन स्‍कीम है. यह स्‍कीम 10 साल के लिए एक तय दर पर पेंशन के भुगतान की गारंटी देती है.

इसका रिटर्न 8-8.3 फीसदी की रेंज में है. यह निवेश के मोड निर्भर करता है. यह दर फिक्‍स्‍ड डिपॉजिट के मुकाबले ज्‍यादा है. अभी एसबीआई सीनियर सिटीजंस को 10 साल की अवधि के फिक्‍स्‍ड डिपॉजिट पर 6.75 फीसदी ब्‍याज दे रहा है.

स्‍कीम के तहत सीनियर सिटीजंस 15 लाख रुपये तक निवेश कर सकते हैं. इस स्‍कीम में 31 मार्च तक निवेश किया जा सकता है.

बिलेटेड आईटीआर फाइल करने की डेडलाइन : 31 मार्च
अगर वित्‍त वर्ष 2018-19 के लिए आपने अब तक आईटीआर फाइल नहीं किया है तो जरूरी है कि आप ऐसा 31 मार्च, 2020 तक कर दें. अगर बिलेटेड आईटीआर फाइल करने की यह मियाद आप चूक जाते हैं तो आप अपना आईटीआर तब तक फाइल नहीं कर पाएंगे जब तक इनकम टैक्‍स डिपार्टमेंट आपसे ऐसा करने के लिए नहीं कहता है.

याद रखें कि बिलेट‍ेड आईटीआर फाइल करने के लिए आपको 10,000 रुपये की लेट फीस देनी होगी. हालांकि, अगर आप इसे 31 दिसंबर तक फाइल कर देते तो आपको 5,000 रुपये की लेट फीस देनी पड़ती.

सरकार को किराये पर टीडीएस जमा करने की अंतिम तारीख : टैक्‍स डिडक्‍शन की तारीख पर न‍िर्भर
अगर आप किराये के मकान में रहते हैं और महीने में 50,000 रुपये से ज्‍यादा का किराया देते हैं तो इस पर आपको टैक्‍स काटने की जरूरत है. आयकर कानून के अनुसार, ऐसे किरायेदार को वित्‍त वर्ष में एक बार कुल किराये पर 5 फीसदी की दर से टैक्‍स काटने की जरूरत है.

यह टैक्‍स घर खाली करते वक्‍त या वित्‍त वर्ष के अंत में काटा जा सकता है. जिस महीने ये काटा जाता है, उसके 30 दिनों के भीतर सरकार के पास टीडीएस को जमा करने की जरूरत पड़ती है. ऐसा नहीं करने पर पेनाल्‍टी और ब्‍याज लगता है.

टैक्‍स बचत से जुड़े निवेश : 31 मार्च
टैक्‍स बचत करने के लिए जरूरी है कि आप 31 मार्च से पहले टैक्‍स सेविंग इनवेस्‍टमेंट कर दें. अगर आप ऐसा नहीं करते हैं तो आप टैक्‍स-सेविंग्‍स डिडक्‍शन क्‍लेम नहीं कर सकेंगे. नतीजतन आपको ज्‍यादा टैक्‍स देना पड़ेगा.

कंपनी को निवेश के सबूत जमा करने की मियाद : अलग-अलग कंपनियों में अलग-अलग
टैक्‍स बचत से जुड़ी एक और बात जो आपको ध्‍यान में रखने की जरूरत है वह यह है कि जरूरी दस्‍तावेजों को अपनी कंपनी को समय रहते जमा कर दें. इससे अतिरिक्‍त टीडीएस कटने से बच जाएगा. टैक्‍स बचत के लिए आपको निवेश के प्रूफ, रेंट एग्रीमेंट इत्‍यादि को जमा करने की जरूरत पड़ती है. हालांकि, याद रखें कि ऐसे दस्‍तावेजों को जमा करने की डेडलाइन अलग-अलग कंपनियों में अलग-अलग होती है.

कंपनी, बैंक से टीडीएस सर्टिफिकेट जुटाने की तारीख : 15 जून से जुटाना शुरू कर दें
आईटीआर फाइल करने में पहला स्‍टेप कंपनी और बैंक से टीडीएस सर्टिफिकेट हासिल कर लेना है. कंपनी को आपको फॉर्म 16 (टीडीएस सर्टिफिकेट) देने की जरूरत पड़ती है. इसमें वर्ष के दौरान दी गई सैलरी और काटे गए टैक्‍स का ब्‍योरा होता है.

इसी तरह बैंक भी फॉर्म 16 ए (टीडीएस सर्टिफिकेट) जारी करते हैं. यह ब्‍याज के 10,000 रुपये से ज्‍यादा होने पर काटे गए टैक्‍स के लिए जारी किया जाता है. सीनियर सिटीजंस के लिए यह लिमिट 50,000 रुपये है.

बैंक और आपकी कंपनी 15 जून से आपको टीडीएस सर्टिफिकेट देती है. इसे हासिल करना नहीं भूलें.

आईटीआर फाइल करने की डेडलाइन : 31 जुलाई
31 मार्च तक टैक्‍स सेविंग्‍स पूरी कर लेने के बाद अगला स्‍टेप अपना आईटीआर फाइल करने का है. आम करदाता और एचयूएफ के लिए आईटीआर फाइल करने की अंतिम तारीख 31 जुलाई है. अगर आप इस तारीख तक रिटर्न फाइल नहीं करते हैं तो आपको पेनाल्‍टी देनी होगी. डेडलाइन के बाद लेकिन 31 दिसंबर 2020 से प‍हले आप आटीआर फाइल करते हैं तो आपसे 5,000 रुपये की पेनाल्‍टी वसूली जाएगी.

जनवरी 2021 और मार्च 2021 के बीच आईटीआर फाइल करने पर पेनाल्‍टी की रकम 10,000 रुपये होगी. छोटे करदाता जिनकी इनकम 5 लाख रुपये से ज्‍यादा नहीं है, उनके लिए अधिकतम पेनाल्‍टी 1,000 रुपये है.

पैन से आधार को लिंक करने की अंतिम तारीख : 31 मार्च
पैन को आधार के साथ लिंक करने की अंतिम तारीख को बढ़ाकर 31 मार्च, 2020 किया गया है. पहले इसकी समयसीमा 31 दिसंबर, 2019 थी. याद रखें अगर समय रहते पैन को आधार के साथ लिंक नहीं किया गया तो आपका पैन इनऑपरेटिव हो जाएगा.

होम लोन पर पीएमएवाई के तहत क्रेडिट सब्‍सिडी : 31 मार्च
मिडिल इनकम ग्रुप के लिए प्रधानमंत्री आवास (पीएमएवाई) योजना के तहत लाभ लेने के लिए अंतिम तारीख 31 मार्च है. पीएमएवाई स्‍कीम के अनुसार, मिडिल इनकम ग्रुप I और II घर खरीदने पर क्रेडिट सब्सिडी हासिल कर सकते हैं. यह सब्सिडी कुछ शर्तों के साथ मिलती है.

स्‍कीम के तहत सालाना हाउसहोल्‍ड इनकम के आधार पर कैटेगरी को बांटा गया है. एमआईजी-I के लिए हाउसहोल्‍ड इनकम 6 लाख से 12 लाख रुपये के बीच रखी गई है. इस कैटेगरी के लिए चार फीसदी क्रेडिट सब्सिडी उपलब्‍ध है.

इसी तरह एमआईजी-II श्रेणी में वो आते हैं जिनकी हाउसहोल्‍ड इनकम 12 लाख से 18 लाख रुपये के बीच है. इन्‍हें तीन फीसदी की क्रेडिट सब्सिडी उपलब्‍ध है.
© Copyright 2013-2019 - Hindi Blog - ALL RIGHTS RESERVED - POWERED BY BLOGGER.COM